Saturday, September 18, 2021
spot_img

CPU का FULL FORM | CPU क्या है और कैसे काम करता है?

CPU का FULL FORM “CENTRAL PROCESSING UNIT” होता है |

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे CPU के बारे में जो की कंप्यूटर का बहुत ही important Part है |

जैसे की हमारे शारीर में हमारा Brain हमारे सारी प्रगति को नियन्त्रण करता है| ठीक वैसे ही CPU भी कंप्यूटर में हो रहे सारे प्रगति को नियन्त्रण करता है|

इसीलिए CPU को Brain of the Computer कहा जाता है |

CPU क्या है ?

 CPU computer का महत्वपूर्ण भाग है, कंप्यूटर किसी अकेली मशीन का नाम नहीं है, कंप्यूटर, बहुत से डिवाइसों से जोड़कर बनाया जाता है|

कंप्यूटर में cpu से जुड़े सभी Hardware , Software , users तथा Input डिवाइसों से आर्जित होने वाले डेटा को संभालता है और Process करके नतीजे को सामने देता है |

CPU (Central Processing Unit) जैसे की हार्डवेयर का छोटा सा एक टुकड़ा है, जो कंप्यूटर प्रोग्राम के सारे अनुदेश को process करता है |

यह कंप्यूटर सिस्टम के सभी आवश्यक कार्य को करता है, जैसे की ALU (Arithmetical logical unit) और output / input ऑपरेशन को कंट्रोल करता है |

CPU आपना कार्य तीन उपकरण की उपयोग से पूरा करता है , जिसका नाम आप लोगो को नीचे दिए गये है:

  • Memory
  • ALU (Arithmetical logical unit)
  • ALU (Arithmetical logical unit)

CPU का पूरा नाम “CENTRAL PROCESSING UNIT” होता है |
Photo by Valentine Tanasovich from Pexels

Memory  

कंप्यूटर का बुनियादी आधार memory है, किसी भी संकेत , निर्देश , सूचना  तथा निष्कर्स को स्टोर करके रखना memory का काम होता है, “COMPUTER की स्टोरेज unit memory होती है |”

 

 ALU (Arithmetical logical unit)

ALU (Arithmetical logical unit) एक डिजिटल सर्किट है जो की बुनियादी जोड़ , घटाओ , गुना , भाग और तर्क संचालन जैसे OR और AND फंक्शन।

और MEMORY प्रोग्राम्स के डाटा और निर्देशों को STORE करता है |

 

Control unit   

कंट्रोल यूनिट को शार्ट कट में CU भी कहा जाता है, यह एक CPU (Central processing unit)  का मुख्य आधार होता है |

CU (Control unit) को कंप्यूटर का प्रबंधक भी कहते है, CU (Control unit) सभी साधनों को निर्देशिका करता है की कब और कौन सा काम प्रोसेस करना है |

 

CPU कैसे काम करता है

CPU (Central processing unit) के जन्म से अभी तक इसमें बहुत सी तरक्की की गयी है|

पिछले कई वर्ष में तो आप सभी लोग जानते होंगे की जो  कार्य cpu करता है, वो बहुत ही महत्वपूर्ण  कार्य होता है लेकिन ये जानना भी बहुत ही जरुरी है, की cpu काम कैसे करता है ?

CPU कैसे काम करता है

काफी सारे बदलाव के प्रतिकूल भी cpu के जो  BASIC FUNCTION है वो अभी तक बिलकुल वैसे ही है, तो आएइ जानते हैं की cpu कैसे काम करता हैं -:

CPU के BASIC FUNCTONS कुछ इस प्रकार है 

  • Fetch (फेत्च) function
  • Decode (डिकोड) function
  • Execute (एक्सीक्यूट) function
  • Storage (स्टोरेज) function

आइये  और इनके बारे में विस्तार से जानते है: 

Fetch  (फेत्च) function

पहला चरण , फेत्च स्मर्ति में एक निर्देश का पता लगाने पर जोर देता है|

एक प्रोग्राम काउंटर जो एक रजिस्टर है, जो पहले निष्पादित किये जाने वाले निर्देशों के अनुकर्म को निर्धारित करता है |

और फिर उन निर्देशों को memory में सहेजता है , प्रोग्राम memory में स्थान निर्धारित करता है |

इसे दुसरे तरीके से रखने के लिए प्रोग्राम काउंटर इस बात का ट्रैक रखता है, की  cpu वर्तमान प्रोग्राम में कहा है |

एक निर्देश प्राप्त करने के बाद, प्रोग्राम काउंटर को मेमोरी इकाइयों में निर्देश शब्द की लम्बाई से बढाया जाता है |

अक्सर, प्राप्त किये गये निर्देश को कुछ धीमी memory से पुनाप्राप्त किया जाना चाहिए, जिससे cpu वापस आने के लिए प्रतिच्छा करते समय रुक जाता है इसे एक रूकावट के रूप में जाना जाता है |

Decode (डिकोड) function

CPU को memory से प्राप्त होने वाला निर्देश यह निर्धारित करता है, की cpu को क्या करना चाहिए |

निर्देश को टुकड़ो में विभाजित किया जाता है, जिसे cpu के विभिन्न खंडडिकोड (decode) चरण के दौरान समझ सकते है |

CPU का इंस्ट्रक्शन सेट आर्किटेक्चर निर्धरित करता है, की नुमेरिकल वैल्यू की व्याख्या कैसे की जाती है ISA निर्देश में बिट्स का एक ब्लॉक, जिसे ओपकोड के रूप में जाना जाता है, अक्सर इंगित करता हैं |

पूर्णांक के शेष भाग में आमतोर पर उस निर्देश के लिए आवश्यक जानकारी होती है ,  जैसे की एक अतिरिक्त ऑपरेशन के लिए ऑपरेंड |

ऐसे ऑपरेंड को एक सिथर मान (तात्कालीन मान के रूप में संद्रभित) या मान के स्थान के संदर्भ रूप में निर्दिष्ट किया जा सकता है, एक रजिस्टर या एक स्मर्ति पता |

CPU के BASIC FUNCTONS कुछ इस प्रकार है 
Photo by Johannes Plenio from Pexels

Execute (एक्सीक्यूट) function

निष्पादन चरण फेत्च और decode प्रक्रियाओं  को अनुसरण करता है, इस स्थर पर cpu के विभिन्न भागों को जोड़ा जाता है, ताकि वे आवश्यक संचालन कर सके |

यदि एक अतिरिक्त ऑपरेशन की आवश्यकता है , उदहारण के लिए एक (Arithmetical logical unit) ALU को input के एक सेट और output के एक सेट से जोड़ा जयेगा और जोड़े जाने वाले नम्बर input में दिए गये है और output में अंतिम योग प्रदान किया गया है |

ALU (Arithmetical logical unit) में input पर बुनियादी अंकगणित और तार्किक संचालन (जैसे जोड़े और बिटवाइज संचालन )को निष्पादित करने के लिए आवश्यक सर्किटरी शामिल है |

यदि आतिरित्क ऑपरेशन का ऐसा मान उतपन्न करता है जो cpu को संसाधित करने के लिए बहुत बड़ा है, तो flag register में Arithmetic overflow flags को रखा जा सकता है |

Storage (स्टोरेज) function

storage का अर्थ होता है computer memory और इसे हम लोग secondary storage के नाम से भी जानते है |

Storage (स्टोरेज) function IN CPU
Technology vector created by stories – www.freepik.com

स्टोरेज device वो होता है, जिसमे हमारा डाटा और प्रोग्राम को स्टोर करके फ्यूचर के लिए रखते है, क्योकि इसमे डेटा और प्रोग्राम computer की memory में स्टोर होने के बाद स्टोर होता है |

उदहारण के तोर पर -:

  • फ्लोपी डिस्क
  • हार्ड डिस्क
  • मैग्नेटिक डिस्क
  • फ़्लैश डिस्क आदि |

CORE क्या हैं और कितने प्रकार के होते है?

core एक ऐसा Hardware होता है, जो आपके processor में लगा होता है यानि यह एक आपके  processor का subset  होता है

यानि आपके computer में जितने core होते है, वो आपने आप में खुद एक cpu का काम करता है |

Actually, जो एक core होता है, वो multitasking को perform करता है|

और हर काम एक ही टाइम पे कर देता है, जिससे आप लोगो का समय की बचत होती है और आप कई काम एक साथ कर सकते है |

CORE को कितने भागो में विभाजित किया है ?

CPU KE CORE
Technology vector created by freepik – www.freepik.com

यदि cpu के प्रकार के बारे में बात की जाए तो cpu प्रोसेसर स्पीड कितना स्लो हैं, या फिर कितना फ़ास्ट होता है, cpu का विभाजन उसकी प्रोसेसर के आधार पर किया जाता है |

कोर के आधार पर cpu को अलग – अलग विभाजित भी किया जा सकता है.

जैसे की single core cpu , dual core cpu , quad core cpu आदि |

 आइये इसका स्पष्टीकरण  करते है |

  • Single core cpu
  • Dual core cpu
  • Quad core cpu
  • Octa core cpu
  • Deca core cpu

 

Single Core CPU

पुराने ज़माने के कंप्यूटर के साथ में ये Single core cpu आते थे|

single core cpu का यह मतलब है, की जिसमे एक core होता है और यह cpu के अन्दर एक व्यक्तिगत प्रोग्राम होता है, singel core में एक ही core होता है |

सिंगल core cpu में एक साथ एक ऑपरेशन को किया जा सकता है, जैसे की अगर आप माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल को run कर रहे है, तो आप कोई और एप्लीकेशन ओपन नहीं कर पाएंगे |

single core cpu multitasking करने में असमर्थ है, इसलिए single core का चलन अब ख़तम हो चूका हैं |

आज के समय में 8 से 16 core वाले processor चलन में है, क्योकि यह बहुत ही तेज गति से काम करते है |

 

Dual-core CPU

Intel dual core पहला cpu है, जो प्रदर्शन से समझौता किये बिना overheating की समस्या को हल कर देता है |

दो core का जो पहला cpu बना उसका नाम ही dual core cpu है यह पहला cpu है, जिसके अन्दर दो core यूज़ किया जाता है |

  • Dual core में दो core होते है |
  • Dual core में maximum आपको 3mb l2 cache memory मिल सकती है |
  • जो dual core में specified clock speed है, उससे आप 20-30 % तक over clocking (over locked) कर सकते है |
  • dual core से बेहतर आपका core 2 dua processor होता है |

Quad core CPU

अगर में बात करू quad core की तो इसमे 4 core होते है जो प्रोसेस को करते है|

जैसे की कोई भी टास्क को एक click में करते हैं, जैसे की message करना, call  करना या फिर internet use करना |

तो इसमे केवल एक core ही प्रोसेस करता हैं अगर इसमें हैवी काम को करते है तो हमारे सरे core प्रोसेस करते है |

 

Octa Core CPU

octa core आपका नेक्स्टी लेवल में आता है और जो octa core में चिप होती है वो एक साथ आठ processor का काम करती है|

इसमें दो सेट होते हैं जो 4 – 4 processor में विभाजित किया जाता हैं |

  • जो पहला सेट होता है, वो low power processor का काम करता है, ये बिलकुल basic core होता है, जिससे कंप्यूटर की जुरुरी और कम power को लेने वाली प्रोग्राम्स run करती है |
  • दूसरा सेट होता है, वो heavy प्रोग्राम्स जैसे game, video editor, corporate software को run करने में सहयोग करता है, इसीलिए इसको high power processor कहा जाता है |

 

Deca Core CPU

ये सबसे लास्ट core हैं, जिसके में बारे आप को बताने जा रहे है |

जो deca core होता है उसमें आपके 10 core होते है, वैसे snap dragon processor ने अभी तक आठ core वाला octa core तक ही बनाया है|

Mediatek processor ने दस core का समूह को तैयार किय पर उसका performance snap dragon के octa या hexa से compare किया जाये तो उससे कम है|

ROM AND RAM क्या होता हैं, इसका फुल फॉर्म और कितने प्रकार के होते हैं 

RAM AND ROM
Technology photo created by freepik – www.freepik.com

पहले बात करते है ROM के बारे में, तो आएइ और जानते है की क्या होता है ROM?

ROM का पूरा नाम READ ONLY MEMORY ये वर्ड बहुत से उन लोगो ने सुना होगा जो CD ROM को market से purchase करते थे|

CD के पीछे ये ROM शब्द लगा हुआ था CD उसका मतलब Campact Disk ROM है |

 

ROM क्या होता है और COMPUTER में कहा होता हैं

अगर आपने O.S (OPERATING SYSTEM) को install किया है, और delete या f2 का button दबा कर BIOS (BASIC INPUT OUTPUT SYSTEM) का setup ओपन किया होगा, तो आप को पता होगा की जो BIOS का setup होता है, वो असल में आपकी ROM में install होता है |

ROM Motherboard की एक चिप होती हैं, जिसमें ये software install होता है|

जो softwares, hardware के साथ में आते है उन्हें firmware कहते है, ये softwares ROM में install रहते है |

ROM KYA HOTA HAI
Image by Clker-Free-Vector-Images from Pixabay

जो ROM होता है वो केवल कंप्यूटर या लैपटॉप में नहीं होता है बल्क़ि, ये camera, हार्ड डिस्क ,  printer, mobile phone, washing machin और microwave oven में भी होता है |

Rom के द्वारा किसी भी  firmware software को pre – install करके भेजा जा सकता है|

जब machin को तैयार किया जाता है, मतलब जब आपका कंप्यूटर तैयार किया जाता है |

ROM के बारे में अब थोडा सा और जान लेते हैं, जैसे की जो कंप्यूटर होता है, उसमें दो memory होती है जैसे की -:

  • Primary memory
  • Secondary memory

Primary memory

ROM  primary memory का एक Part होता है।

और इसे non – volatile memory बोली जाती, इसके मदद से light जाने के बाद भी आपका डाटा stored रहता हैं |

Secondary memory

RAM एक Part होता है secondary memory का और इसे volatile memory बोली जाती है |

RAM कंप्यूटर मेमोरी का एक रूप है, जिसे किसी भी व्यवस्था में पढ़ा या बदला जा सकता है|

आमतौर पर काम करने वाले डेटा और मशीन कोड को स्टोर करने के लिए उपयोग किया जाता है।

ROM कितने प्रकार के होते हैं –

COMPUTER RAM
Image by OpenIcons from Pixabay

ROM तीन  type के होते है |

ROM -: kind of ROM

1) (Programmable read only memory) ROM – P

2) EPROM (Erasable Programmable Read-Only Memory)  EPROM

3) EEPROM (Electrically Erasable Programmable Read-Only Memory)  EEPROM  केवल-पढ़ने के लिए स्मृति के लिए एक संक्षिप्त नाम है।

 RAM क्या होता है और COMPUTER में कितनी होती है

 

RAM  का संक्षिप्त नाम RANDOM ACCESS MEMORY

जब आप कोई भी एप्लीकेशन को COMPUTER या phone में install करते है, तो वो आपके harddisk और phone में सेव होती है |

RAM एक Part होता है secondary memory का और इसे volatile memory बोली जाती है |

लेकिन जब आप उसे run कारते है, तो वो अस्थायी रूप से आपके ram में आ जाती है, और ram उसे Working space देती है run करने के लिए ।

अगर आप कोई भी COMPUTER को खरीदते है तो आप 8GB वाला ही कंप्यूटर ख़रीदे क्योकि जो आप OPERATING SYSTEM को USE करते है, वो ram को COVER करती है, इन Application, Google chorme, या Browser में सबसे जादा ram की जरुरत होती है।

RAM (Randam Access memory) कंप्यूटर मेमोरी का एक रूप है ।

जिसे किसी भी आमतोर में पढ़ा या बदला जा सकता है।

आमतौर पर काम करने वाले डेटा और मशीन कोड को स्टोर करने के लिए उपयोग किया जाता है ।

CONCLUSION

इस आर्टिकल में हमने cpu की सारी जानकारी देने की कोशिश की है, इस आर्टिकल में cpu क्या होता है? cpu कैसे काम करता है? और core से सम्बंधित सभी जानकारी दी गयी|

अगर आर्टिकल में कोई भी जानकारी रहे गयी है, तो PLEASE COMMENT SECTION में जरुर बताएं धनयवाद !

Author : Divya Vishwakarma

The Offer Review  Visit: theofferreview.com

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

Translate »